वीडियो : हेडलाइंस/बुलेटिन/डायल 100 सिपाहियों ने किया गैंगरेप बाराबंकी में रेप पीड़िता का हुक्का पानी बंद/

वीडियो : हेडलाइंस/बुलेटिन/डायल 100 सिपाहियों ने किया गैंगरेप बाराबंकी में रेप पीड़िता का हुक्का पानी बंद/

वीडियो : बाराबंकी सफेदाबाद इलाके घर में घुसकर रेप की कोशिश /जयपुर-आनंदपाल का खेल ख़त्म/और लखीमपुर खीरी रिपोर्ट

वीडियो : हेडलाइंस-मोदी-ट्रंप मुलाकात से पहले पाक को बड़ा झटका, सैयद सलाउद्दीन ‘ग्लोबल टेररिस्ट’ घोषित दो दिवसीय अमेरिकी दौरे पर पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी की अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात से पहले दिया पाकिस्तान को बड़ा झटका ।
वीडियो : हेडलाइंस-यूपी के बाराबंकी में घर में घुसकर महिला से रेप की कोशिश आरोपी राममिलन गिरफ्तार डर के मारे पीड़िता ने छोड़ा घर कोतवाली नगर के सफेदाबाद के एक गांव का मामला

वीडियो : हेडलाइंस-बाराबंकी में बच्ची को बचा न सकी नाबालिग मां 7की बच्ची हुई मौतपंचनामा के लिए भटकता रहा पिता,एनडीटीवी 24 की मदद से भाजपा नेताओं कराया बच्ची का पोस्टमार्टम,परिवार वालों ने किया सामाजिक बहिष्कार,एक साल पहले हुआ रेप सतरिख कस्बे का मामला |

वीडियो : हेडलाइंस-सवारी ढोने वाली गाड़ी बनी यूपी डायल 100 लिफ्ट देने के बहाने लड़की के साथ किया गैंगरेप,सिपाही समेत 2 के खिलाफ केस दर्ज

वीडियो : बुलेटिन-सवारी ढोने वाली गाड़ी बनी डायल 100 लिफ्ट देने के बहाने लड़की के साथ किया गैंगरेप,सिपाही समेत 2 के खिलाफ केस दर्ज
वीडियो : बुलेटिन-फरुखाबाद | यूपी डायल 100 आपकी सेवा सदैव तत्पर,कभी सिपाहियों के लिए शराब पीने की जगह बन जाती है डायल 100 कुछ दिन पहले ऐसी तस्वीरें वायरल हुई थी ये तस्वीरें | जहाँ बोनट पर बैठकर शराब पी जा रही थी उसके इन सिपाहियों सस्पेन्ड किया गया था | लेकिन अब हम आपको ऐसी शर्मसार करने वाली तस्वीर से रूबरू कराने जा रहे है,जो आपको हैरान कर देगी जिसपर आम लोगो की सुरक्षा की जिम्मेदारी है यानी वही रक्षक बन रहे है भक्षक |


यूपी में यूथ पुलिस सिपाहियों की तैनाती और एंड्रॉइड मोबाईल फोन उनकी अय्याशी के लिए आपत्तिजनक फिल्मे उनके हवस को रोक नहीं पा रही है | ऐसा इसलिए क्योंकि अविवाहित पुलिस सिपाही अपनी ड्यूटी के बजाय दिन के अँधेरे में शिकार की तलाश में है वो चाहे किसी ट्रक से लदी लकड़ी हो अकेली लड़की हो उसके साथ मौके का फायदा उठाते हुए अपनी हवस की आग ठण्डी कर रहे है | ऐसा ही शर्मसार करने वाला एक मामला सामने आया है |

कहाँ जा रही हो,मामा के यहाँ जा रही हूँ आओ मैं तुम्हे छोड़ देता हूँ जी हां लिफ्ट देने बहाने एक लड़की से उसके परिचित डायल100 के सिपाही ने अपने दोस्तों के साथ गैंगरेप किया उसके बाद फरार हो गए | मामला फरुखाबाद के पुलिसलाइन का है यहाँ युवती लाकर उसके साथ गैंगरेप किया गया । रातभर बंधक बनाए रखने के बाद सुबह युवती चकमा देकर वहां से भाग निकली। घटना की जानकारी उसने अपने परिजनों को दी। परिजनों की शिकायत के बाद एसपी ने एक्शन लेते हुए सिपाही समेत 2 के खि‍लाफ गैंगरेप का केस दर्ज करने का आदेश दिया।

आपको बता दें कि शाहजहांपुर के थाना अल्लाहगंज निवासी 17 वर्षीय किशोरी के मामा फरुखाबाद में रहते हैं। किशोरी शनिवार सुबह बस से मामा के घर जा रही थी। पांचाल घाट पर बस खड़ी हुई। गांव का उपेन्द्र त्रिवेदी बस में चढ़ा और किशोरी को नीचे बुलाया। परिचित होने के नाते वह उतर आई। उपेन्द्र ने कहा उसके पास कार है, वह उसे मामा के घर छोड़ देगा। कार में अल्लाहगंज में चल रही यूपी 100 का चालक अजय कुमार भी था। सिपाही अजय व उपेंद्र किशोरी को पुलिस लाइन ले गए। युवती के मुताबिक, उपेन्द्र ने उसे पुलिस लाइन के ब्लॉक नंबर 8 के कमरा नंबर 6 में बंद कर दिया। इसके बाद दोनों ने मिलकर रातभर गैंगरेप किया। रात बीतने के बाद जब उपेन्द्र और सिपाही अजय सो गए तो युवती वहां से भाग निकली। बस से वो अपने गांव पहुंची।

इस सूचना के मिलने पर उसके मामा चिलौआ गए और किशोरी को लेकर एसपी के पास पहुंचे। एसपी के आदेश पर फतेहगढ़ कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया।रात में कोतवाली प्रभारी किशोरी को लेकर पुलिस लाइन गए। उसने उस कमरे की पहचान कर ली, जिसमें उसे बंधक बनाकर दुष्कर्म किया गया। बताया गया है कि वह कमरा फील्ड यूनिट में तैनात सिपाही दिनेश चंद्र के नाम है।कोतवाली प्रभारी अनूप निगम ने बताया तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।फ़िलहाल पुलिस ने मुकदमा तो दर्ज कर लेकिन अभी आरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर सकी है | वही इस वारदात से एक बात तो जरूर साबित हो गयी है कि गाड़ी चाहे डायल 100 की हो या कोई और वाहन,सुरक्षा की गारंटी अब खुद आपके हाथ में है |

वीडियो : बुलेटिन-बाराबंकी सतरिख बच्ची को बचा न सकी नाबालिग मां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बेटी बचाओ अभियान में मील का पत्थर बताया गया मगर कुदरत को शायद कुछ और ही मंजूर था। रविवार की सुबह बीमारी के चलते बालिका की मौत हो गई। कस्बे की एक नाबालिग मां के हिस्से में आया दोहरा दर्द सबकी आंखें नम कर गया। दुष्कर्म से परिणामस्वरूप वह मां बनी थी। समाज की बदनामी के डर को नजरअंदाज कर उसने पुत्री को सात माह तक पाला-पोसा मगर रविवार को आर्थिक तंगी के चलते उचित इलाज न करा पाने के कारण पुत्री की मौत हो गई। मामला कस्बा सतरिख का है। यहां की एक करीब 15 वर्षीय किशोरी के साथ मुहल्ले के ही निवासी लक्ष्मी नामक व्यक्ति ने एक साल पहले दुष्कर्म किया था।

दुष्कर्म से किशोरी गर्भवती हो गई। पीड़िता ने पिता की मदद से दुष्कर्मी को जेल भिजवाने के बाद गर्भ गिरवाने के बजाय बालिका को जन्म दिया। जन्म के बाद लोगों ने नवजात को किसी को गोद देने की सलाह भी दी मगर उसने किसी की नहीं सुनी और अपनी पुत्री को पाल-पोसकर बड़ा करने का संकल्प लिया। किशोरी के इस निर्णय को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बेटी बचाओ अभियान में मील का पत्थर बताया गया मगर कुदरत को शायद कुछ और ही मंजूर था। रविवार की सुबह बीमारी के चलते बालिका की मौत हो गई। किशोरी उसे पहले सीएचसी सतरिख ले गई, जहां से जिला चिकित्सालय रेफर किया। जिला चिकित्सालय में पहुंचने के बाद मौत हो गई। दुधमुंही पुत्री की मौत के बाद नाबालिग मां का रोना-बिलखना देखकर हर किसी की आंखें भर आईं। थाना सतरिख के निरीक्षक एके सिंह ने इस मामले की जानकारी से इनकार किया है।

वीडियो : बुलेटिन-2-जयपुर। गैंगस्टर आनंदपाल को एसओजी(स्पेशल आपरेशन ग्रुप) पहले जिंदा पकड़ना चाहती थी। एसओजी ने पहले लाउडस्पीकर से सरेंडर करने को कहा। उसने जवाब दिया- मैं सरेंडर नहीं करूंगा और उसने एके 47 से फायरिंग करना शुरू कर दी। अंधाधुंध फायरिंग होते देख पहले कमांडो खेत में लेट अपनी जान बचाई। एसपी राहुल बारहट ने बताया कि जैसे ही पुलिस के जवानों ने रवणसिंह के खेत में बने घर में प्रवेश किया, तो आनंदपाल ने फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस को परिवार के सदस्यों के विरोध का भी सामना करना पड़ा।आनंदपाल द्वारा की जा रही फायरिंग घर के सदस्यों द्वारा पुलिस के कार्य में अवरोध पैदा करने के कारण एक बार स्थिति नियंत्रण से बाहर हो गई। आखिरकार पुलिस को विरोध कर रहे परिवारजनों को कमरे में बंद करना पड़ा। कार्रवाई के दौरान घर से एक आईना कब्जे में लिया गया और उसे सीढ़ियों की दीवार पर लगाया गया, जो काफी सहायक साबित हुआ। बता देंं कि एनकाउंटर से पहले आनंदपाल ने सरेंडर करने से मना कर दिया था।

वीडियो : बुलेटिन-लखीमपुर खीरी-अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस के मौके पर सशस्त्र सीमा बल ने सीमा पर बसे गांवों में एक बैठक का आयोजन कर नशे की बुराइयों को बताया और साथ ही नशे से होने वाली बुराइयों के बारे में सभी को जानकारी दी । इस मौके पर एसएसबी के असिटेंट कमान्डेट हरंवश सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि नशा एक अभिशाप है यह एक ऐसी बुराई है जिससे इंसान का अनमोल जीवन समय से पहले ही मौत का शिकार हो जाता है नशे के लिये समाज में शराब, गांजा, भांग, अफिम, सहित चरस स्मैक, कोकिन, ब्राउन शुगर जैसे घातक मादक दवाओं और पदार्थो का उपयोग किया जाता है। इन जहरीले और नशीले पदार्थो के सेवन से व्यक्ति को शारीरिक, मानसिक और आर्थिक नुकसान होने के साथ साथ ही सामजिक वातावरण भी प्रदूषित होता है साथ ही स्वयं और परिवार की सामाजिक स्थिति को भी भारी नुकसान पहुंचाता है। www.ndtv24.org.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *