रायबरेली में लाठियों से पीटा, गोली मारी और गाड़ी सहित पांच को जिंदा जला दिया

रायबरेली ऊंचाहार थाना क्षेत्र के पूरे भूसई इटौरा बुजुर्ग गांव में वर्चस्व की जंग में सोमवार रात पांच लोगों को जिंदा एसयूवी में फूंक दिया गया। जिंदा जलाने के पहले चार को लाठियों से बुरी तरह से पीटा गया था जबकि एक को गोली मारने के साथ ही उसका मुंह ईंटों से कूंचा गया था।

मरने वालों में चार प्रतापगढ़ जिले के संग्रामगढ़ थाना क्षेत्र के थे तो एक युवक कौशांबी जिले के सैनी थाना क्षेत्र का रहने वाला था। इस दिल दहला देने वाली वारदात में पुलिस ने चार नामजद और चार अज्ञात लोगों पर हत्या की एफआईआर दर्ज की है। ग्राम प्रधान रामश्री के तीन बेटों समेत चार को गिरफ्तार कर लिया गया है।

मृतक रोहित शुक्ल (40) के छोटे भाई देवेश ने तहरीर में कहा है कि ऊंचाहार थाना क्षेत्र के पूरे भूसई इटौरा बुजुर्ग गांव में अपनी ससुराल में रहता है। रोहित इटौरा से प्रधानी का चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे।

इसे लेकर गांव की प्रधान रामश्री के बेटे राजा यादव उर्फ विजय बहादुर, कृष्ण कुमार यादव और प्रदीप यादव उससे अदावत रखते थे। ससुराल में वह नया मकान बनवा रहा है।

उत्तर प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के साथ ही बदमाशों का आतंक भी बढ़ गया है आये दिन हो रही घटनाओं से पूरे प्रदेश भर में हाहाकार मचा हुआ है। रायबरेली जिले में बेखौफ बदमाशों ने गांव के भीतर आतंक फैलाना चाहा मगर किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। ग्राम प्रधान को मारने के मकसद से आये बदमाशों ने प्रधान के घर पर अंधाधुन फायरिंग की और भाग निकले भागते समय हादसा होने से पांचों हमलावरों की मौके पर ही मौत हो गई।

प्राप्त जानकारी के अनुसार ऊंचाहार थाना क्षेत्र के गांव अप्टा मजरे इटौरा बुजुर्ग गांव में सोमवार रात करीब 9.30 बजे ग्राम प्रधान और उनके बेटों को मारने के मकसद से आये 5 लोगों ने ग्राम प्रधान के घर पर अंधाधुन फायरिंग की और मौके से भागने की कोशिश करने लगे। गोलियों की आवाज सुनकर घरों से बाहर निकले ग्रामीणों ने बदमाशों को दौड़ा लिया। ग्रामीणों ने दौड़ाया तो गाडी एक ग्रामीण को टक्कर मारने के बाद बिजली के पोल से जा टकराई। इससे पोल टूट गया और तार सफारी पर गिर गए, जिससे आग लग गई। इसमें पांच लोग जिंदा जल गए। मरने वालों में प्रतापगढ़ से देवरा गांव का प्रधान भी बताया जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक प्रतापगढ़ के संग्रामगढ़ थाना क्षेत्र के देवरा गांव के प्रधान रोहित शुक्ला का इटौरा बुजुर्ग गांव में ननिहाल है। उसे यहां काफी संपत्ति विरासत में मिली है। रोहित ने गांव में ही हाल में घर भी बनवाया है। बताते हैं की रोहित का इरादा ग्राम पंचायत की राजनीति में सक्रिय होने का था। इसी से उसकी महिला ग्राम प्रधान राम श्री यादव के बेटे राजा यादव से पट नहीं रही थी।

बताया जा रहा है कि रोहित शुक्ला अपने समर्थकों के साथ गांव आया और राजा यादव के घर पर धावा बोल दिया। रोहित शुक्ला समर्थकों ने राजा यादव के घर पर फायरिंग भी की। घटना के बाद रोहित और उसके समर्थक स्कार्पियो गाड़ी से भाग रहे थे तभी उनकी गाड़ी गांव से 2 किलोमीटर दूर एक बिजली के खम्बे से टकरा गई।

सूचना मिलने पर भारी मात्रा में पुलिस फाॅर्स पहुंचा। पुलिस अधीक्षक गौरव सिंह भी देर रात घटनास्थल पर पहुंच गए। एसपी ने बताया कि घटनास्थल पर पड़े शवों की अभी तक शिनाख्त नहीं हो पाई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से ही मौत के असली कारणों का पता चलेगा।

इस बीच आईजी और जोन के एडीजी अभय कुमार प्रसाद देर रात मौके पर पहुंचे और उन्होंने घटनास्थल का जायजा लिया। साथ ही एसपी को घटना के खुलासे के निर्देश दिए। उधर घटना में मारे गए सभी 5 लोगों के शवों को कोतवाली ले जाया गया। शवों को पोस्टमार्टम के लिए सुबह भेजा गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *